Lok Sabha Election 2024 Date in Hindi | कैसे तय होती है लोकसभा चुनाव की तारीख? पिछले चार साल में हुए इलेक्शन से समझे आपके यहां पर कब होगे मतदान

0
Lok Sabha Election 2024 Date in Hindi - onlineakhbarwala

2024 लोकसभा चुनाव कब हो रहे हैं – When are the 2024 Lok Sabha Elections taking place

चुनाव आयोग कई परिस्थितियों को ध्यान में रखकर लोकसभा चुनावों की तारीख तय करता है  चुनाव आयोग के अलावा राजनीतिक दलों और निर्वाचन अधिकारियों से सलाह भी करता है (Lok Sabha Election 2024 Date) 17वीं लोकसभा का कार्यकाल 16 जून 2024 में पूरा होने वाला है ऐसे में चुनाव आयोग आगामी आम चुनावों की तैयारियों में लगा हुआ है. हर किसी के दिल में सवाल है कि लोकसभा चुनाव 2024 आखिर कब हो रहे है।क्या 16 अप्रैल से देश में लोकसभा चुनाव आरंभ होंगे? सोशल मीडिया पर चुनाव आयोग का एक लेटर वायरल हो रहा है (Lok Sabha Election 2024 Date)जिसके बाद चुनाव तारीख को लेकर अनुमान का दौर शुरू हो गया। हाल में चुनाव आयोग ने साफ कहा है ये जरूरी नहीं कि इसी समय से चुनाव हो। चुनाव आयोग की ओर से अभी तक तारीखों की आधिकारिक ऐलान नहीं की गई है, (Lok Sabha Election 2024 Date)लेकिन बीते चार लोकसभा चुनाव और संवैधानिक प्रावधानों के आधार पर हम संभावित समय-सीमा का अंदाज़ा लगा सकते हैं।

कैसे तय होती है लोकसभा चुनाव की तारीख – How is the date of Lok Sabha elections decided

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 324 के अनुसार, भारत में लोकसभा, विधानसभा, राज्यसभा चुनावों का भारतीय निर्वाचन आयोग ऐलान (Election Commission of India) ही करता है।

चुनाव आयोग का जिम्मा है कि वह संविधान द्वारा निर्धारित समय-सीमा में चुनाव समृद्ध कराए। लोकसभा चुनाव की तारीख तय करने में भी आयोग की भूमिका सर्वश्रेष्ठ होती है।

लोकसभा के हर सदन का कार्यकाल पांच साल का होता है। और इस पांच साल की समय अंत खत्म होने से पहले ही नए चुनाव कराए जाने चाहिए।(lok sabha )आयोग को लोकसभा चुनाव की तारीख इस तरह निर्धारित करनी होती है कि संविधान की ओर से निर्धारित समय-सीमा का उल्लंघन न हो।

निर्वाचन आयोग चुनाव की दिनांक तय करते समय कुछ परिस्थितियों को भी ध्यान में रखता है। (lok sabha election 2024 date) जैसे- ऐसी दिनांक होनी चाहिए कि चुनाव वाले दिन उस एरिया में ज्यादा गर्मी या बारिश न हो जिससे मतदान प्रभावशाली हो जाए।

ऐसी दिनांक का चयन किया जाता है जिससे किसी भी राजनीतिक दल को अनुचित लाभ न पहुंचे और चुनाव निष्पक्ष रूप से पूर्ण हो सकें। इसके अलावा निर्वाचन आयोग, नेशनल हॉलीडेज, खास परीक्षाओं की तारीख, धार्मिक त्योहार सुरक्षा बलों की उपलब्धता पर भी विचार करता है।

वोटिंग से कितने दिन पहले होता है दिनांक का ऐलान – How many days before voting is the date announced?

बीते समय चार आम चुनावों (2019, 2014, 2009 और 2004) पर नजर डालें, तो चुनाव आयोग ने चुनाव दिनांक की घोषणा और वोटिंग के बीच लगभग 40 से 50 दिनों का अंतर रखा है।(lok sabha )2019 लोकसभा चुनाव 11 अप्रैल से 19 मई के बीच सात चरणों में हुए थे, (Lok Sabha Election 2024 Date)लेकिन चुनाव आयोग ने मार्च के शुरुआत में ही दिनांक का घोषणा कर दी थी।

आयोग ने 2014  और 2009 में भी मार्च के पहले हफ्ते में लोकसभा चुनाव की तारीखों का घोषणा कर दी थी। 2019 में 7 अप्रैल से 12 मई तक लोकसभा चुनाव कराए गए थे।  वहीं 2009 में 16 अप्रैल से 13 मई तक देशभर में चुनाव हुए थे।  हालांकि 2004 में थोड़ा पहले 29 फरवरी को तारीखों की घोषणा कर दी गई थी।

पिछले चुनावों के आधार पर अंदेशा लगाया जा सकता है कि इस साल 2024 में भी मार्च फर्स्ट वीक में लोकसभा चुनाव की दिनांक का घोषणा कर दी  जायेगे है।

कब होंगे 2024 लोकसभा चुनाव- When will the 2024 Lok Sabha elections be held

लोकसभा चुनाव के लिए दिनांक की घोषणा  अभी तक नहीं हूई है।(lok sabha election 2024 opinion poll) बीते चार लोकसभा चुनाव की बात करें तो अप्रैल से ही मतदान की आरंभ हुई है। और मई तक चुनाव खत्म हो जाते हैं। 2019 में 11 अप्रैल से, 2014 में 7 अप्रैल, 2009 में 16 अप्रैल और 2004 में 20 अप्रैल से चुनाव की शुरुआत हुई थी।

माना जा रहा है कि 2024 में 18वीं लोकसभा के सदस्य चुनने के लिए अप्रैल से मई तक मतदान की प्रक्रिया चल सकती है। मार्च से मई तक का समय मौसम के लिहाज से भी ठीक माना जाता है। ये चुनाव पांच से सात चरण में हो सकते हैं।

आपके राज्य में किस-किस चरण में हो सकते हैं निर्वाचन – In which phases can elections be held in your state

कुछ बड़े और ज्यादा लोकसभा सीटों वाले राज्यों में कई चरणों में चुनाव होते हैं। जैसे- पश्चिम बंगाल उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, बिहार, कुछ छोटे राज्यों में एक या दो चरण में चुनाव समाप्त हो जाते हैं. जैसे- दिल्ली, मिजोरम,  नगालैंड,  अरुणाचल प्रदेश, गोवा,  त्रिपुरा,।

पश्चिमी यूपी में पहले, दूसरे, तीसरे, चौथे चरण और पूर्वी यूपी में बाकी के चरणों में चुनाव संभव है। ऐसे ही बिहार में भी सभी चरणों में चुनाव होने की कल्पना है।

पिछले लोकसभा चुनाव के डेटा के आधार पर जानिए कहां किस चरण में चुनाव हो सकते हैं-

  • पहला चरण– आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, लक्षद्वीप, असम, बिहार, मेघालय, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, तेलंगाना, ओडिशा, सिक्किम, त्रिपुरा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, जम्मू और कश्मीर,  पश्चिम बंगाल, अंडमान,
  • दूसरा चरण– असम,  बिहार, छत्तीसगढ़, जम्मू और कश्मीर, कर्नाटक, मणिपुर, ओडिशा, तमिलनाडु, महाराष्ट्र,त्रिपुरा, यूपी, पश्चिम बंगाल और पुडुचेरी आंध्र प्रदेश,
  • तीसरा चरण- असम, छत्तीसगढ़, गुजरात, गोवा, जम्मू और कश्मीर, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, ओडिशा, बिहार पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, दादरा और नगर हवेली, दमन और दीव।
  • चौथा चरण– उत्तर प्रदेश, झारखंड, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, राजस्थान, जम्मू और कश्मीर,बिहार पश्चिम बंगाल।
  • पांचवा चरण– उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, बिहार, राजस्थान,  जम्मू और कश्मीर, झारखंड, मध्य प्रदेश।
  • छठा चरण-झारखंड, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पश्चिम बंगाल, बिहार,  दिल्ली-एनसीआर।
  • सातवां चरण– झारखंड, चंडीगढ़,  मध्य प्रदेश, पंजाब, बिहार, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड,  हिमाचल प्रदेश।

कब आएंगे चुनाव नतीजे – When will the election results come?

आम तौर पर पर अंतिम चरण के चुनाव के बाद तीसरे या चौथे दिन चुनाव नतीजे घोषित कर दिए जाते हैं।(lok sabha election 2024 date month) 2019 में 23 मई को चुनावी नीतजो की घोषणा की थी। 2014 और 2009 में 16 मई को रिजल्ट आया. 2004 में 13 मई को नतीजे सामने आए। इसलिये माना जाता है  कि 2024 में भी 13 मई से 23 मई के बीच चुनावी नतीजे सभी के सामने आ गये होंगे। मई में वोटों की गिनती के बाद 543 सीटों वाली लोकसभा की स्थिति साफ हो जाएगी।

कब से लगेगी आचार संहिता – When will the code of conduct be implemented

लोकसभा या विधानसभा चुनाव की दिनांक के ऐलान के साथ ही चुनाव आयोग की ओर से पूरे देश या उस राज्य में आचार संहिता लग जाती है। 1962 में आम चुनाव से पहले चुनाव आयोग ने पहली बार आचार संहिता को सभी मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों में वितरित किया था।

2024 लोकसभा चुनाव के लिए मार्च पहले हफ्ते से आचार संहिता लग सकती है। इस दौरान कोई नया बिल पेश नहीं किया जा सकता। (lok sabha election 2024 opinion poll) केंद्र या राज्य सरकार कोई नई योजना की घोषणा या लागू नहीं कर सकती। राजनीतिक दल या उम्मीदवार अपने प्रचार प्रसार के लिए सरकारी संसाधनों का इस्तेमाल नहीं कर सकते। राजनीतिक दल मतदाताओं के लिए मतदान केंद्र पर आने जाने के लिए गाड़ी की व्यवस्था नहीं कर सकते।

आदर्श आचार संहिता के तहत कोई भी पार्टी या उम्मीदवार किसी भी ऐसी गतिविधि में समिलित नहीं हो सकता है(Lok Sabha Election 2024 Date) जिससे आपसी घृणा पैदा हो या दो जातियों और समुदायों के बीच तनाव पैदा हो। मस्जिद, चर्च, मंदिर या अन्य पूजा स्थलों का इस्तेमाल चुनाव प्रचार के लिए मंच के रूप में नहीं किया जा सकता।

मतदाताओं को रिश्वत देना, मतदाताओं को डराना, मतदान केंद्रों के 100 मीटर के दायरे में प्रचार करना चुनाव कानून के तहत अपराध है। अगर कोई उम्मीदवार इन नियमों का उल्लंघन करता है तो उस उम्मीदवार का नामांकन कैंसिल किया जा सकता है। गिरफ्तारी होने पर आसानी से जामिनी नहीं मिल पाती।

Read More: Ram Murti Ayodhya | राम मंदिर के गर्भगृह में स्थापित होने के बाद सामने आई श्री राम भगवान की पहली तस्वीर

Health Benefits in Hindi | सर्दियों में बनाएं 5 सरल व्यंजन, मिलेंगे स्वाद और सेहत दोनों में फायदा

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed