Shree Mahakaleshwar| इस वजह से उज्जैन में महाकाल कहलाए भोलेनाथ, जानें इस नगरी से जुड़ी कई हैरान कर देने वाली बातें

0
Shree Mahakaleshwar - onlineakhbarwala

महाकालेश्वर मंदिर – Mahakaleshwar Temple

महाकाल उज्जैन, मध्यप्रदेश, भारत में स्थित एक प्रमुख हिन्दू धार्मिक स्थल है जिसे ‘भोलेनाथ’ के नाम से भी जाना जाता है। महाकाल मंदिर यह मंदिर भगवान शिव के रूप में पूजा जाता है (Shree Mahakaleshwar) और यह उज्जैन के प्रमुख धार्मिक स्थल में से एक है। यह मंदिर भारत में 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है (Shree Mahakaleshwar)और भगवान शिव की पूजा यहां बड़े श्रद्धा भाव से की जाती है।तो चलिए जानते हैं (mahakaleshwar) इस नगरी से जुड़ी कई हैरान कर देने वाली बातें।

जय श्री महाकाल – Jay Shri Mahakal

Jay Shri Mahakal - onlineakhbarwala

सिम्हास्थ मेला: उज्जैन में हर 12 साल में सिम्हास्थ मेला आयोजित होता है, (hotel near mahakaleshwar temple) जो महाकुंभ मेले का एक रूप है। इस मेले में लाखों श्रद्धालु आते हैं और गंगा, यमुना, और सरस्वती नदियों में स्नान करने का महत्वपूर्ण अवसर पाते हैं।

कालभैरव मंदिर: यह मंदिर भगवान कालभैरव के रूप में पूजा जाता है और महाकाल मंदिर के समीप स्थित है। कालभैरव को अधिकतर लोग भैरव बाबा के नाम से पुकारते हैं और उन्हें भगवान शिव की भी एक रूप माना जाता है।(jai shree mahakaleshwar in hindi)

सीपा घाट: यह घाट महाकाल मंदिर के पास स्थित है और महाकाल सागर किनारे बसा है। यहां स्थित घाट पर हिन्दू धर्म के श्रद्धालु स्नान करते हैं और पितृ तर्पण करते हैं।

कालिदास प्राणी उद्यान: यह उज्जैन में स्थित एक विशेष प्राणी उद्यान है (mahakal dharmshala) जो कई प्रकार के जानवरों को देखने का मौका प्रदान करता है।

उज्जैन की पौराणिक कथाएँ: उज्जैन कई पौराणिक कथाओं से जुड़ी हुई है, जिनमें भगवान शिव, पार्वती, महाकाल, और कालभैरव के अनेक महत्वपूर्ण लीलाएँ शामिल हैं।

यहां तक कि, उज्जैन का इतिहास, संस्कृति और धार्मिक महत्व उसे भारतीय सांस्कृतिक धरोहर का महत्वपूर्ण हिस्सा बनाते हैं। इसके अलावा, यह एक प्रमुख धार्मिक और पर्यटन स्थल भी है जिसे लोग आकर्षित होते हैं।(shree mahakaleshwar bhakt niwas)

“महाकाल” और “भोलेनाथ” के नाम भगवान शिव के विभिन्न रूपों और गुणों को दर्शाते हैं। “महाकाल” शब्द शिव के अनन्त और निरंतर विकसित होने वाले रूप को दर्शाता है, जो समय के पार जाने वाला है। (Shree Mahakaleshwar) वह जीवन की अनिश्चितता का प्रतीक होते हैं और मृत्यु के पश्चात् का प्रतीक भी।

उज्जैन शहर को “आदि वाणीश्वर” की उपन्यास में महाकालेश्वर की अहमियत दी गई है।(mahakal mantra) इसके अलावा, यह शहर कुमारिकाटीलकम् नाटक में भी उल्लिखित है, जिसमें भगवान शिव का महत्वपूर्ण मंदिर बताया गया है।

 महाकाल मंदिर  – Mahakal temple

mahakal temple - onlineakhbarwala

महाकाल मंदिर का निर्माण विश्वकर्मा कोटि के अनुसार निम्नलिखित विशेषताओं के साथ हुआ है:

शिवरात्रि: इस मंदिर में वार्षिक रूप से मनाई जाने वाली शिवरात्रि उत्सव विशेष रूप से प्रसिद्ध है, जिसमें बड़ी संख्या में शिवभक्त भाग लेते हैं।

ज्योतिर्लिंग: महाकालेश्वर मंदिर भारत के द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक है,(maha kaleshwar mandir) जिन्हें भगवान शिव के रूपों के प्रतीक के रूप में पूजा जाता है।

सिंहद्वार: मंदिर के प्रवेश द्वार को “सिंहद्वार” कहा जाता है,(mahakal jyotirling) जिसमें एक विशेष रूप से डिज़ाइन किया गया सिंह स्थित है।

बेल पत्र: मंदिर में भगवान की पूजा के लिए बेल पत्र का विशेष महत्व होता है, जिसे प्राथमिकता से प्रयुक्त किया जाता है।

काल भैरव: मंदिर के पास ही काल भैरव का मंदिर भी है,(mahakal pic hd)  जिसे विशेष भक्ति और पूजा का आदान प्रदान किया जाता है।

उज्जैन शहर और महाकाल मंदिर भारतीय संस्कृति और धार्मिकता के महत्वपूर्ण प्रतीक हैं (shree mahakal dharmshala booking online) और यहाँ के धार्मिक उत्सव और परंपराएँ इसकी विशेषता हैं।

Read More : History of Ashwatthama in Hindi | अश्वत्थामा की पूरी कहानी, महाभारत युद्ध से जुड़े रहस्य

Kedarnath Temple History In Hindi | जानिये केदारनाथ मंदिर का पूरा इतिहास

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed