Kidney Disease Symptoms In Females In Hindi | महिलाओं में गुर्दे की बीमारी के लक्षण

0
kidney Disease Symptoms In Females In Hindi

kidney cyst symptoms in females – महिलाओं में किडनी सिस्ट के लक्षण

( kidney Disease Symptoms In Females In Hindi ) जो महिलाएं 30 साल की उम्र की हो जाती  है  तो उन महिलाओं  को किडनी की समस्या एक बढ़ती हुई उनके लिए  चिंता है जिसे अक्सर अनदेखा और मजाक बना दिया जाता  है। जैसे-जैसे महिलाओं की उम्र आगे  बढ़ती है, उनमें किडनी की समस्या होने का खतरा बढ़ जाता है। इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं  आइए जानते हैं इनके बारे में कुछ चर्चा करते है।

किडनी  की परेशानियों का सामना किसी भी व्यक्ति को किसी भी उम्र में करना पड़ सकता है, लेकिन महिलाएं इस परशानी से सबसे ज्यादा प्रभावित होती हैं( kidney Disease Symptoms In Females In Hindi)  30 साल की उम्र के बाद अधिकतर महिलाओं को किडनी से संबंधित बीमारियों का सामना करना पड़ता है किडनी की परशानी के कारण इसका असर महिलाओं की ओवरऑल हेल्थ पर भी  पड़ता है. तो आइए जानते हैं क्या हैं इसके कारण

Here is the List of 3 Dangerous Kidney Stone Symptoms in Women – यहां महिलाओं में किडनी स्टोन के 3 खतरनाक लक्षणों की सूची दी गई है

1. प्रेन्नेंसी संबंधित दिक्कतें- Pregnancy related problems

Pregnancy related problems- chronic disease

जब महिलाएं  एक से ज्यादा बच्चे पैदा कर चुकी  तो वो अपने जीवन में कभी ना कभी किडनी की समस्या का सामना करना पड़ सकता है जिन महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान जेस्टेशनल डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर का सामना करना पड़ता है उन महिलाएं  को जीवन में आगे चलकर किडनी डैमेज का भी सामना करना पड़ सकता है. ऐसे में  उन महिलाएं  के लिए जरूरी है कि महिलाएं डिलीवरी के बाद अपनी किडनी  का खास ध्यान रखें।( kidney Disease Symptoms In Females In Hindi)

2. हार्मोनल बदलाव- hormonal changes

Pregnancy related problems- hormonal changes

महिलाओं को अपने पूरे जीवन में अलग-अलग तरह के हार्मोनल बदलावों का सामना करना पड़ता है  यह हार्मोनल बदलाव 30 साल की उम्र से पहले और बाद में भी होते रहते हैं  ( kidney Disease Symptoms In Females In Hindi)हार्मोन के स्तर में उतार-चढ़ाव, विशेष रूप से एस्ट्रोजन, किडनी के काम को प्रभावित कर सकते हैं  एस्ट्रोजेन रक्त वाहिकाओं  को हेल्दी बनाए रखने और किडनी में  आपके ब्लड के फ्लो को इम्प्रूव करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है एस्ट्रोजन के लेवल में असंतुलन के चलते किडनी की बीमारियों का खतरा बढ़ने लगता है जिससे महिलाओं  किडनी इंफेक्शन, सिस्ट और पथरी का सामना भी  महिलाओं करना पड़ता है। (lower back pain causes female kidney)

3. पुरानी बीमारी- chronic disease

Pregnancy related problems- chronic disease

महिलाओं  को काफी लंबे समय से चली आ रही किसी पुरानी बीमारी के कारण भी किडनी की समस्या का सामना करना पड़ सकता है ऑटोइम्यून डिसऑर्डर के कारण महिलाओं को किडनी में जलन और डैमेज की समस्या का  सामना करना पड़ता है इसके साथ ही, डायबिटीज और हाई ब्लड प्रेशर की दिक्कत, जो उम्र के साथ बढ़ती रहती है, महिलाओं की  किडनी डैमेज का खतरा बढ़ जाता है ऐसे में जरूरी है कि आप इन दोनों ही समस्याओं के कंट्रोल में रखें।( kidney Disease Symptoms In Females In Hindi)

यह एक सामान्य जानकारी है. किडनी से संबंधित किसी भी तरह की समस्याओं से बचने के लिए  ये सब जरूरी है कि महिलाएं समय-समय पर अपना चेकअप करवाती रहें और शरीर में किसी भी तरह के कोई असामान्य लक्षण आपको   दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर के साथ संपर्क करें।(kidney infection symptoms in women)

 Read More: Benefits of Aloe Vera on Face Overnight in Hindi | रात में चेहरे पर एलोवेरा जेल लगाने से क्या होता है?

Best Ways To Lose Weight In Hindi | खाना पकाने के इन तरीकों से आसानी से घटा सकते हैं वजन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed